तो तुम लेखक बनना चाहते हो?

Image

(कवि: चार्ल्स बुकोस्की

अनुवाद: वरुण ग्रोवर)

 

अगर फूट के ना निकले

बिना किसी वजह के

मत लिखो।

अगर बिना पूछे-बताये ना बरस पड़े,

तुम्हारे दिल और दिमाग़

और जुबां और पेट से

मत लिखो।

 

अगर घंटों बैठना पड़े

अपने कम्प्यूटर को ताकते  

या टाइपराइटर पर बोझ बने हुए

खोजते कमीने शब्दों को

मत लिखो।

अगर पैसे के लिए

या शोहरत के लिए लिख रहे हो

मत लिखो।

 

अगर लिख रहे हो

कि ये रास्ता है

किसी औरत को बिस्तर तक लाने का

तो मत लिखो।

अगर बैठ के तुम्हें

बार-बार करने पड़ते हैं सुधार

जाने दो।

अगर लिखने का सोच के ही

होने लगता है तनाव

छोड़ दो।

 

अगर किसी और की तरह

लिखने की फ़िराक़ में हो

तो भूल ही जाओ

अगर वक़्त लगता है

कि चिंघाड़े तुम्हारी अपनी आवाज़

तो उसे वक़्त दो

पर ना चिंघाड़े ग़र फिर भी

तो सामान बाँध लो।

 

अगर पहले पढ़ के सुनाना पड़ता है

अपनी बीवी या प्रेमिका या प्रेमी

या माँ-बाप या अजनबी आलोचक को

तो तुम कच्चे हो अभी।

 

अनगिनत लेखकों से मत बनो

उन हज़ारों की तरह

जो कहते हैं खुद को ‘लेखक’

उदास और खोखले और नक्शेबाज़

स्व-मैथुन के मारे हुए।

दुनिया भर की लाइब्रेरियां

त्रस्त हो चुकी हैं

तुम्हारी क़ौम से  

मत बढ़ाओ इसे।

दुहाई है, मत बढ़ाओ।

 

जब तक तुम्हारी आत्मा की ज़मीन से

लम्बी-दूरी के मारक रॉकेट जैसे

नहीं निकलते लफ़्ज़,

जब तक चुप रहना

तुम्हें पूरे चाँद की रात के भेड़िये सा

नहीं कर देता पागल या हत्यारा,

जब तक कि तुम्हारी नाभि का सूरज

तुम्हारे कमरे में आग नहीं लगा देता

मत मत मत लिखो।

 

क्यूंकि जब वक़्त आएगा

और तुम्हें मिला होगा वो वरदान

तुम लिखोगे और लिखते रहोगे

जब तक भस्म नहीं हो जाते

तुम या यह हवस।

 

कोई और तरीका नहीं है

कोई और तरीका नहीं था कभी।  

(Original poem here: http://allpoetry.com/poem/8509537-So-You-Want-To-Be-A-Writer-by-Charles-Bukowski )

9 thoughts on “तो तुम लेखक बनना चाहते हो?

  1. (In Roman text for those who can’t read Devnagari)

    “Toh tum lekhak ban-na chaahte ho?”

    *******************************************

    Agar phoot ke na nikley
    Bina kisi wajah ke
    Mat likho.

    Agar bina poochhey-bataaye na baras padey
    Tumhaare dil aur dimaag
    aur zubaan aur pate se.
    Mat likho.

    Agar ghanton baithna padey
    apne computer ko taaktey
    ya typewriter par bojh baney huye
    khojtey kaminey shabdon ko.
    Mat likho.

    Agar paise ke liye ya shohrat ke liye
    likh rahe ho.
    Mat likho.

    Agar likh rahe ho ki
    yeh raasta hai
    Kisi aurat ko bistar tak laane ka.
    Toh mat likho.

    Agar baith ke tumhein
    baar-baar karne padte hain sudhaar
    Jaane do.
    Agar likhne ka soch ke hi
    hone lagta hai tanaav
    Chhorh do.

    Agar kisi aur ki tarah
    likhne ki firaaq mein ho
    toh bhool hi jaao.
    Agar waqt lagta hai
    ke chinghaarhey tumhaari apni aawaaz
    toh usey waqt do
    par naa chinghaarhey gar phir bhi
    Toh saamaan baandh lo.

    Agar pahle padh ke sunaana padta hai
    apni biwi ya premika ya premi
    ya maa-baap ya ajnabi aalochak ko
    Toh tum kachhey ho abhi.

    Anginat lekhakon ki tarah mat bano
    unn hazaaron ki tarah
    jo kahte hain khud ko ‘lekhak’
    udaas aur khokhley aur naqshebaaz
    swa-maithun ke maarey huye (swa-maithun = masturbation)

    Duniya bhar ki librariyaan
    trast ho chuki hain
    tumhaari qaum se
    mat badhaao isey.
    duhaayi hai, mat badhaao!
    Jab tak tumhaari aatma ki zameen se
    lambi-doori ke maarak rocket jaise
    nahin nikalte lafz,
    jab tak chupp rehna
    tumhein poore chaand ki raat ke bhediye sa
    nahin kar deta paagal ya hatyaara,
    jab tak tumhaari naabhi ka sooraj,
    tumhaare kamre mein aag nahin laga deta,
    mat-mat-mat likho.

    Kyunki jab waqt aayega
    aur tumhein mila hoga vardaan
    tum likhoge aur likhte rahoge
    jab tak bhasm nahin ho jaate
    tum ya yeh hawas.

    Koi aur tareeka nahin hai
    koi aur tareeka nahin tha kabhi.

    ************************************

  2. mai likhta to hu lekin kisi b topic par 5 se 10 line se jyada ni likh pata hu. plz help me. koi achhe se tips do jis se mai 72 lekhk bn sku.

  3. अरसा हुआ कहीं कॉमेंट लिखे, लेकिन अभी मजबूर हो गया हू. कैसे कहूँ में शुक्रिया के के महज़ एक शब्द ही तो मगर उठ रही है दिल के सुदूर प्रांत से…. “शुक्रिया”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s